भाजपा ने फेसबुक को 19 महीने में दिए 10 करोड़

फेसबुक के विज्ञापनदाताओं में भाजपा नंबर वन

भारत में सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) पिछले 18 महीने में सामाजिक, चुनाव और राजनीतिक मुद्दों पर फेसबुक की सबसे बड़ी विज्ञापनदाता थी। पार्टी ने फरवरी 2019 से 4.61 करोड़ रुपए से अधिक खर्च किए। लिस्ट में 1.84 करोड़ रुपए के खर्च के साथ दूसरे नंबर पर देश में मुख्य विपक्षी दल कांग्रेस हैं। सोशल मीडिया में विज्ञापनों के खर्च का डेटा रखने वाले ट्रैकर पर 24 अगस्त तक उपलब्ध आकड़ों से यह पता चला है।

इस श्रेणी में सबसे अधिक खर्च करने वाले टॉप 10 विज्ञापनदाताओं में चार भाजपा से जुड़े हैं। ट्रैकर के मुताबित इनमें तीन ऐसे हैं जो दिल्ली की सत्ताधारी पार्टी के मत को बढ़ावा देते हैं। इन चार में से दो कम्युनिटी पेज, ‘मेरा पहला वोट मोदी को (1.39 करोड़)’, और ‘भारत के मन की बात (2.24 करोड़ रुपए)’ हैं। इसके अलावा ‘नेशन विद नमो’ है जिसे समाचार और मीडिया वेबसाइट (1.28 करोड़ रुपए) के रूप में वर्गीकृत किया गया है। इसके अलावा एक और पेज (.65 करोड़ रुपए) भाजपा नेता पूर्व सांसद आरके सिन्हा से जुड़ा है।

अगर इन सभी खर्चों को आपस में जोड़ तो भाजपा ने 10.17 करोड़ रुपए खर्च किए जो इस श्रेणी में टॉप दस में से कुल विज्ञापन (15.81) का लगभग 64 फीसदी है। इस अवधि में अप्रैल-मई 2019 के आम चुनाव शामिल हैं, जिसमें भारी बहुमत के साथ भाजपा की सत्ता में वापसी हुई है।

टॉप 10 दस लिस्ट में आम आदमी पार्टी (आप) भी शामिल हैं, जिसने 69 लाख रुपए खर्च किए। डेटा के मुताबिक इस श्रेणी में फेसबुक इंडिया में फरवरी 2019 से 59.65 करोड़ रुपए खर्च किए गए। विज्ञापन सिर्फ वेबसाइट और ऐप तक ही सीमित नहीं थे बल्कि इंस्टाग्राम, ऑडियंस नेटवर्क और मैसेंजर सहित अन्य फेसबुक संपत्तियों में फैले हुए थे।

कम्युनिटी पेज ‘मेरा पहला वोट मोदी को’ और ‘भारत के मन की बात’ जनवरी 2019 में बनाए गए थे। ‘नेशन विद नमो’ जून 2013 में बनाया गया। तीनों पीएम मोदी और भाजपा संबंधित कंटेंट को बढ़ावा देते हैं।इस श्रेणी में टॉप 10 विज्ञापनदाताओं में न्यूज प्लेटफॉर्म डेलीहंट (एक करोड़ से कुछ अधिक) और ई-कॉमर्स प्लेटफॉर्म फ्लिपकार्ट ने 86.43 लाख रुपए खर्च किए। लिस्ट में वीडियो शेयरिंग ऐप पब्लिक (1.24 करोड़ रुपए) भी शामिल हैं, जो क्षेत्रीय भाषाओं में न्यूज वीडियो बनाता है। ये अक्टूबर 2018 से फेसबुक मौजूद है।

जनसत्ता से साभार

भूली-बिसरी ख़बरे