उत्तराखंड : श्रम कानूनों का 1000 दिनों का निलंबन वापस लो!

‘मज़दूर संघर्ष अभियान’ के तहत मज़दूरों ने की आवाज़ बुलंद

रुद्रपुर, 4 अगस्त। उत्तराखंड सरकार द्वारा 1000 दिनों के लिए श्रम कानूनों को निलंबित करने और स्थाई रोजगार की जगह फ़िक्सड टर्म लाने आदि के खिलाफ स्थानीय अंबेडकर पार्क में मज़दूरों ने विरोध जताया। इंकलाबी मज़दूर केंद्र व मज़दूर सहयोग केंद्र द्वारा मजदूर अधिकार संघर्ष अभियान (मासा) के बैनर तले 9 अगस्त के देशव्यापी विरोध प्रदर्शन को सफल बनाने का आह्वान हुआ।

इस अवसर पर वक्ताओं ने कहा कि केंद्र की मोदी सरकार के तर्ज पर उत्तराखंड की सरकार भी लम्बे संघर्षों के दौरान हासिल श्रम क़ानूनी अधिकारों को निष्प्रभावी बना रही है। राज्य की भाजपा सरकार ने तमाम विरोधों के बावजूद पहले स्थाई आदेश कानून में बदलाव करके मालिकों की चाहत के अनुरूप फिक्स्ड टर्म लाकर स्थाई रोजगार को निष्प्रभावी बनाया। अब नए उद्द्योगों को लाने के बहाने 1000 दिनों के लिए श्रम कानूनों को निलंबित कर दिया है।

इसे भी पढ़ें

वक्ताओं ने कहा कि मोदी से लेकर योगी, त्रिवेंद्र रावत आदि राज्य सरकारें आपदा को अवसर में बदलते हुए पूँजीपतियों की सेवा में निजीकरण, छंटनी, बंदी को बेलगाम बना दी हैं और जनवादी अधिकारों को ध्वस्त करके पुलिसिया राज कायम कर दिया है।

सभा मे कोरोना आपदा के बहाने मज़दूर अधिकारों पर डकैती बंद करने, केंद्र व राज्य सरकारों द्वारा मज़दूर विरोधी सभी फैसले वापस लेने, सब को स्थाई रोजगार देने, सभी मज़दूरों का निशुल्क व पूर्ण जाँच करवाने आदि की माँग बुलंद की। मज़दूरों का दमन बंद करने, श्रम कानूनों को निष्प्रभावी बनाने पर लगाम लगाने, महँगाई, छँटनी-बंदी पर रोक लगाने आदि की भी माँग उठाई गई।

सभा में मज़दूरों के सतत और जुझारू संघर्ष को आगे बढ़ाने के लिए जारी ‘मजदूर संघर्ष अभियान’ के तहत मासा के आह्वान पर आगामी 9 अगस्त को अखिल भारतीय विरोध प्रदर्शन को सफल बनाने का आह्वान किया गया।

कार्यक्रम में मज़दूर सहयोग केंद्र के मुकुल, इंकलाबी मज़दूर केंद्र के दिनेश चंद, एलजीबी वर्कर्स यूनियन के पूरन पांडे, बीसीएच मज़दूर संघ के महिपाल सिंह, रॉकेट रिद्धि सिद्धि कर्मचारी संघ के धीरज जोशी, इंटरार्क मज़दूर संगठन किच्छा से पान मोहम्मद, नेस्ले कर्मचारी संगठन से महेंद्र राणा, पारले मज़दूर संघ के प्रमोद तिवारी, भगवती माइक्रोमैक्स के ठाकुर सिंह, मंत्री मैटेलिक्स यूनियन के हेमंत भट्ट, इंटरार्क मज़दूर संगठन पंतनगर के फिरोज, समता सैनिक दल से गोपाल सिंह गौतम, उदय सिंह, सत्येंद्र सिंह, राकेश कुमार, जितेंद्र, ललित बोरा सहित तमाम मज़दूर उपस्थित रहे।

भूली-बिसरी ख़बरे