फोर्ड के कर्मचारी पुलिस वाहन उत्पादन के ख़िलाफ़

वाहन निर्माता कंपनी फोर्ड के कर्मचारियों ने अपने प्रबंधन से कहा है कि हमें पुलिस के लिए गाड़ियां नहीं बनानी चाहिए। वहीं फोर्ड के सीईओ का कहना है कि फोर्ड के इंटरसेप्टर वाहन पुलिस को उनका काम निपटाने में मददगार है।

दरअसल यह मुद्दा अमेरिका में जॉर्ज फ्लाइड की हत्या के बाद नस्लवाद और रंगभेद के खिलाफ चल रहे आंदोलन में पुलिस की भूमिका को लेकर उठा है।फोर्ड मोटर पुलिस विभाग को विशेष रूप से तैयार किया गया इंटरसेप्टर वाहन उपलब्ध कराती है।

फॉर्ड कर्मचारियों की आम सभा में ब्लैक लाईव्स मैटर्स आंदोलन के दौरान पुलिस के पक्षपात पूर्ण रवैये को लेकर चर्चा हुई। इसके बाद कर्मचारियों ने एक आम प्रस्ताव पास करते हुए मांग की कि फोर्ड प्रबंधन को पुलिस विभाग के साथ वाहनों के लेनदेन और उत्पादन को तुरंत बंद कर देना चाहिए। इसको लेकर कर्मचारियों ने एक हस्ताक्षर अभियान भी छेड़ दिया है। फोर्ड जो भी वाहन डिजाइन करती और बनाती है पुलिस उसका इस्तेमाल लोगों के दमन के लिए करती है।

अमेरिका में पिछले कुछ दिनों में पुलिस के अत्याचार के कई वीडियो सामने आए हैं। कई जगह पुलिस आंदोलनकारियों को ऊपर कार दौड़ती हुई भी नजर आई है। लोगों का कहना है कि पुलिस विभाग तकनीक का इस्तेमाल जनता के खिलाफ कर रहा है इसलिए उन्हें ऐसा करने से रोकना होगा।

पुलिस के नस्लभेदी व्यवहार में तकनीक के इस्तेमाल को लेकर उपजे विवाद के बाद अमेजॉन और माइक्रोसॉफ्ट ने कहा था कि वे पुलिस को उनकी फेस रिकॉग्निशन तकनीक का इस्तेमाल करने से रोकेंगे।

भूली-बिसरी ख़बरे