बजाज ऑटो, औरंगाबाद प्लांट में 200 से ज्यादा कर्मचारी कोरोना पॉजिटिव, चार की मौत

महाराष्ट्र, औरंगाबाद के वलुज स्थित ऑटोमोबाइल कंपनी बजाज ऑटो के प्लांट में 200 से ज्यादा कर्मचारी कोरोना पॉज़िटिव पाए गए हैं जिसमें से 4 कर्मचारियों की कोविड-19 की वजह से मृत्यु हो गई।

औरंगाबाद स्थित बजाज ऑटो का यह सबसे बड़ा प्लांट है। अप्रैल में उत्पादन शुरू होने के बाद कंपनी में दो शिफ्टों में काम चल रहा था।

3 दिन पहले 165 कर्मचारियों के कोरोना पॉज़िटिव होने की खबर थी। शुक्रवार को मिली रिपोर्ट के अनुसार 200 से ज्यादा कर्मचारी कोरोना से संक्रमित पाए गए हैं। कोरोना पॉजिटिव कर्मचारियों को होम कोरोंटाइन कर दिया गया है।

वालुज प्लांट में 8110 कर्मचारी काम करते हैं जिनमें ठेका कर्मचारी भी शामिल है। प्लांट के अंदर पहला केस 6 जून को मिला था। कंपनी के अनुसार संक्रमित कर्मचारियों के इलाज का खर्च प्रबंधन वहन करेगा।

वहीं कंपनी प्रबंधन का कहना है की मात्र 2% कर्मचारी कोविड-19 से प्रभावित हुए हैं इसलिए चिंता की बात नहीं है। प्लांट में तुरंत प्रभाव से सैनिटाइजेशन और आवश्यक बचाव के उपाय किए जा रहे हैं। इतनी बड़ी संख्या में कोरोना के केस मिलने के बावजूद प्लांट में उत्पादन जारी है।

प्रबंधन का कहना है कि काम बंद होने पर नो वर्क नो पे का सिद्धांत लागू करना पड़ेगा जो प्रबंधन और कर्मचारियों दोनों के लिए घाटे का सौदा होगा। कंपनी के पुणे और उत्तराखंड स्थित प्लांट में कोरोना का कोई केस नहीं है।

हाल ही में मारुति, ट्योटा किर्लोस्कर और हुंडई के प्लांट में बड़ी संख्या में मजदूरों के कोरोना पॉजिटिव मिलने की खबर थी मगर इतनी बड़ी संख्या में पहली बार किसी प्लांट के अंदर कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं।

देश में उत्पादन गतिविधियों के जोर पकड़ने के साथ ही मजदूरों के भीतर कोविड-19 का संक्रमण तेजी से फैल रहा है और ज्यादातर मामले कार्यस्थल से निकल कर सामने आ रहे हैं। ज्यादातर कंपनियों के अंदर सैनिटाइजेशन और सुरक्षा के उपाय ना होने की वजह से असेंबली लाइन पर काम करने के दौरान कोविड-19 के संक्रमण से बचाव मुश्किल है।

%d bloggers like this: