वन गुर्जरों के दमन के खिलाफ प्रदर्शन, राज्यपाल को ज्ञापन

रजा जी नेशनल पार्क में वनकर्मियों की मनमानी के ख़िलाफ़ रामनगर व अल्मोड़ा में जताया आक्रोश

रामनगर (नैनीताल)। उत्तराखंड के रजा जी नेशनल पार्क, देहरादून में वन कर्मियों द्वारा बर्बरता पूर्वक वन गुजरों की झोपड़ियाँ जलाने, महिलाओं से अभद्रता करने और फर्जी मुक़दमा दर्ज करने के ख़िलाफ़ विभिन्न संगठनों ने विरोध जताया और राज्यपाल को ज्ञापन भेजा।

ज्ञात हो कि 16 व 17 जून को राजा जी नेशनल पार्क के वन कर्मचारियों व पुलिस द्वारा पहले वन गुजरों की झोपड़ी को तोड़ा गया उसके बाद उन्हें पीटकर फर्जी मुकदमें लगाकर जेल में डाल दिया गया। इस दौरान नूरजहां व एक अन्य महिला को बुरी तरीके से पीटा भी गया और नूरजहां के प्राइवेट पार्ट पर घूंसों से हमला भी किया गया।

इस इस घटना से आक्रोशित विभिन्न संगठनों के प्रतिनिधियों व वन गुजरों ने रामनगर तहसील पर एकत्र होकर प्रदर्शन किया तथा कार्रवाई हेतु उत्तराखंड के राज्यपाल को रामनगर एसडीएम के माध्यम से ज्ञापन प्रेषित किया।

उत्तराखंड परिवर्तन पार्टी ने अल्मोड़ा में प्रदर्शन कर जिलाधिकारी,अल्मोड़ा के मार्फ़त उत्तराखंड के राज्यपाल व मुख्यमंत्री को ज्ञापन भेजा।

रामनगर (नैनीताल)

रामनगर में विभिन्न संगठनों द्वारा भेजे गए ज्ञापन में मांग की गई है कि नूरजहां की प्रथम सूचना रिपोर्ट पर तोड़-फोड़ करने व फर्जी मुकदमे लगाने तथा मारपीट के लिए जिम्मेदार वन कर्मचारियों के खिलाफ कानूनी कार्रवाई की जाए, गिरफ्तार महिलाओं, बुजुर्ग व नाबालिक बच्चों समेत सभी लोगों को तत्काल बिना शर्त रिहा किया जाये।

ज्ञापन में वन प्रशासन पर उच्चतम न्यायालय के स्टे आर्डर के उल्लंघन का आरोप लगाते हुए उत्तराखंड के सभी वनाधिकार कानून 2006 के अंतर्गत प्रस्तुत दावों को तत्काल निपटाने व राजाजी नेशनल पार्क निदेशक की भूमिका की जांच किए जाने की मांग भी की गई है।

वन पंचायत संघर्ष मोर्चा के अध्यक्ष तरुण जोशी ने बताया कि आज 16 व 17 जून की घटनाओं के विरोध में पूरे उत्तराखंड की तहसील व जिला मुख्यालयों पर प्रदर्शन आयोजित किए गए हैं। और यदि सरकार द्वारा हमारी उक्त माँगों पर तत्काल कार्रवाई नहीं की गई तो प्रदेश की जनता को सड़कों पर उतरकर आंदोलन तेज करने के लिए बाध्य होना पड़ेगा।

कार्यक्रम में, महिला एकता मंच की ललिता रावत, सरस्वती जोशी, गोपाल लोधियाल, किसान नेता महेश जोशी, ललित उप्रेती, समाजवादी लोक मंच के मुनीष कुमार, उपपा के प्रभात ध्यानी, मोहम्मद शफी, मोहम्मद बशीर, अशरफ अली,गामा समेत कई दर्जन लोग शामिल थे।

अल्मोड़ा

अल्मोड़ा में उत्तराखंड परिवर्तन पार्टी के केन्द्रीय अध्यक्ष पी सी तिवारी के नेतृत्व में विरोध प्रदर्शन के साथ जिलाधिकारी के मार्फ़त ज्ञापन भेजा गया।

भेजे गए ज्ञापन में घटना की निष्पक्ष, उच्च स्तरीय जाँच व दोषी अधिकारियों पर कार्यवाही; उत्तराखंड में वनाधिकार क़ानून, 2006 लागू कर परंपरागत निवासियों को हक़ देने; नूरजहाँ बेगम व उनके परिवार के संग मारपीट करने वाले कर्मचारियों पर मुक़दमा दर्ज कर कार्रवाई करने की माँग की गई।

भूली-बिसरी ख़बरे