उत्तराखंड की बदहाल स्वास्थ्य सेवाएं दुरुस्त हों !

वाम, जनवादी पार्टियों, संगठनों का एक दिवसीय धरना

हल्द्वानी। क्वॉरेंटाइन सेंटरों की दुर्दशा, स्वास्थ्य व्यवस्था की बदहाली और प्रवासियों को लेकर बनाए जा रहे भय के माहौल के खिलाफ लॉकडाउन का पालन करते हुए भाकपा माले, क्रांतिकारी लोक अधिकार संगठन, अंबेडकर मिशन एंड फाउंडेशन, परिवर्तनकमी छात्र संगठन द्वारा संयुक्त रूप स्थानीय बुद्ध पार्क में एक दिवसीय धरना हुआ और मुख्यमंत्री को ज्ञापन भेजा गया।

मुख्यमंत्री को भेजे गए ज्ञापन में, नैनीताल के तल्ली सेठी स्थित क्वॉरेंटाइन सेंटर में सर्पदंश से एक बच्ची की मौत सहित तमाम दुर्दशाओं का जिक्र करते हुए क्वॉरेंटाइन सेंटर रिहायशी स्थलों को ही बनाए जाने, जिनमें सभी आवश्यक सुविधाएं और साफ सफाई की समुचित व्यवस्था हो, गैर रिहायशी भवनों जैसे स्कूल पंचायत घर आदि को कोरेंटिन सेंटर न बनाए जाने की मांग की गई।

नैनीताल में सर्पदंश से काल-कवलित होने वाली बच्ची के परिजनों को ₹10 लाख रुपए का मुआवजा देने; साथी यह सुनिश्चित करने की मांग की कि क्वारन्टीन सेंटरों में गुणवत्ता युक्त भोजन दिया जाए, सेंटर की व्यवस्था स्थानीय प्रशासन के हाथों में हो, कोरोना टेस्टिंग की सुविधा बढाई जाए, बाहर से आने वाले प्रवासी मज़दूरों के साथ मानवीय व्यवहार हो, भय का माहौल ना बनाया जाए।

यह भी माँग हुई कि कोरोना के खिलाफ लगे हुए डॉक्टर नर्स समेत सभी स्वास्थ्य कर्मियों आशा आंगनवाड़ी कार्यकत्रियों भोजन माताओं पुलिस पीआरडी होमगार्ड आदि को संक्रमण से बचाने के लिए समुचित प्रबंध किया जाए; साथ ही विभिन्न प्रदेशों से लाने ले जाने वाले वाहन चालकों परिचालकों के स्वास्थ्य परीक्षण पर संक्षिप्त ध्यान दिया जाए; स्वास्थ्य सुविधाओं को दुरुस्त किया जाए।

इस मौके पर भाकपा माले जिला सचिव डॉ कैलाश पांडे, अंबेडकर मिशन एंड फाउंडेशन के अध्यक्ष जीआर टम्टा, क्रलोस के टीआर पांडे, सुंदरलाल बौद्ध, पछास के महेंद्र, उमेश, महेश, नसीम, उमेश पांडे, रियासत आदि उपस्थित थे।

भूली-बिसरी ख़बरे