कोरोना संक्रमण : भारत में कबसे रोकी गई विदेश यात्राएं?

8 जनवरी से 23 मार्च तक क़रीब 15 लाख विदेशी यात्री भारत आए

इस बात में संदेह का कोई कारण नहीं है कि भारत में भी कोरोना का संक्रमण विदेशों से आया। 30 जनवरी को भारत में संक्रमण का पहला मामला सामने आया। उसके बाद तमाम विदेशी आवागमन के बीच अमेरिकी राष्ट्रपति और उनका भारी-भरकम दल भी भारत यात्रा पर रहा। …भारत में विदेशी यात्रियों के आवागमन की पड़ताल कर रहे हैं वरिष्ठ विश्लेषक साथी गिरीश मालवीय

मोदी जी कहते है कि ‘जब हमारे यहाँ कोरोना का एक भी केस नहीं था, उससे पहले ही भारत ने कोरोना प्रभावित देशों से आने वाले यात्रियों की एयरपोर्ट पर स्क्रीनिंग शुरू कर दी थी।’

इस स्क्रीनिंग की हकीकत क्या है यह आपको कनिका कपूर के केस से स्पष्ट हो गया होगा! …8 जनवरी से 23 मार्च तक 15 लाख के लगभग विदेशी यात्री भारत आए थे, यह बात खुद केबिनेट सेकेट्री स्वीकार कर चुके हैं। …उन्हें आने दिया गया। उसके बाद केंद्र सरकार राज्य सरकार को कहती हैं कि एक एक आदमी को ढूंढो और उसे क्वारंटाइन करो!

…आप यदि उसे एयरपोर्ट पर रोक कर प्रॉपर क्वारंटाइन कर देते तो आज ये नोबत नही आती?…

दूसरी बात जो मोदी जी ने कही वो ये थी कि ‘कोरोना के मरीज 100 तक पहुंचे, उससे पहले ही भारत ने विदेश से आए हर यात्री के लिए 14 दिन का आइसोलेशन अनिवार्य कर दिया था।’

इसमे भी पेंच है! दरसअल ये जनता को भरमाने वाला तथ्य है। इसे सुनकर ऐसा लग रहा है कि मोदी जी ने तो बहुत तेजी से कदम उठाए है। …लेकिन जरा रुक जाइए यह तारीख संभवतः 15 मार्च है। आज तक की एक खबर बता रही है कि इस दिन भारत मे कोरोना मरीजों की संख्या 108 पुहंच चुकी है…!

अब आप खुद ही सोच लीजिए कि, मोदी सरकार ने कितना लेट विदेशी यात्रियों के आइसोलेशन का निर्णय लिया है!…

अब आप यह जान लीजिए कि सभी विदेशी यात्रियों को आइसोलेशन में रखने की एडवाजरी एक साथ जारी नही की गयी! …अलग अलग देशो के लिए एडवाजरी जारी करने की डेट भी अलग अलग थी…।

भारत सरकार द्वारा जारी किये गए दिशा-निर्देशों के अंतर्गत सबसे पहले 10 मार्च 2020 को निम्न 12 देशों के बारे में अधिसूचना जारी की गयी थी- चीन, हांगकांग, कोरिया, जापान, इटली, थाईलैंड, सिंगापुर, ईरान, मलेशिया, फ्रांस, स्पेन, जर्मनी।

11 मार्च 2020 को दूसरी एडवाइजरी जारी की गई जिसके अनुसार जो लोग इटली, ईरान, कोरिया, स्पेन, फ्रांस, जर्मनी देशों में 15/2/2020 के बाद गए थे उन सबको होम क्वारंटाइन में रखा जाए।

तीसरी एडवाजरी 16  मार्च 2020 को जारी हुई इसके अनुसार जो लोग क़तर, ओमान, कुवैत, UAE गए थे उनको होम क्वोरंटीन किया जाए…!

विदेशी हवाई यात्रा पर पहली रोक 18 मार्च 2020 को यूरोपियन यूनियन, टर्की, यू.के के नागरिकों के लिए लगाई गई और 22 मार्च 2020 से सभी अंतराष्ट्रीय उड़ानों पर रोक लगाई गयी।

यह एडवाजरी वाली जानकारी मध्यप्रदेश के जनसंपर्क विभाग द्वारा जारी एक प्रेस विज्ञप्ति में दी गयी है इसलिए इस पर शंका करने का कोई आधार नही है।

तो यह है प्रधानमंत्री मोदी जी की बातों की हकीकत…..। आगे आप स्वयं समझदार है। …हमारा काम तथ्यों की छानबीन करने का था, तो आपको वो असलियत बता दी जो कोई मीडिया चैनल या अखबार आपको नही बताएगा!….

साथी गिरीश मालवीय की फेसबुक वाल से साभार