कोरोना: यूपी में 16,000 एंबुलेंस कर्मचारियों की हड़ताल

दो महीने से नहीं मिली सैलरी!

यूपी में 102 और 108 की इमरजेंसी एंबुलेंस सर्विस प्राइवेट कंपनी ‘जीवीके’ यूपी सरकार के अंतर्गत कॉन्ट्रैक्ट पर है। कंपनी का कहना है कि कोरोना वायरस जैसी महामारी में काम करने पर हमारी मांगों को पूरा किया जाए।उत्तर प्रदेश में करीब 16,000 एंबुलेंस कर्मचारियों ने हड़ताल पर जाने की धमकी दी है। कर्मचारियों ने कहा कि कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों के लिए एंबुलेंस का इस्तेमाल किए जाने के दौरान अगर उन्होंने उचित रक्षात्मक उपकरण नहीं दिए तो वो अपनी सेवाएं रोक देंगे। इनकी यह भी मांग है कि सभी का वेतन जल्द से जल्द रिलीज किया जाए। एंबुलेंस कर्मचारियों को कथित तौर पर जनवरी से वेतन नहीं मिला है।

यूपी में 102 और 108 की इमरजेंसी एंबुलेंस सर्विस प्राइवेट कंपनी ‘जीवीके’ यूपी सरकार के अंतर्गत कॉन्ट्रैक्ट पर है। कंपनी का कहना है कि कोरोना वायरस जैसी महामारी में काम करने पर हमारी मांगों को पूरा किया जाए। एंबुलेंस वर्कर यूनियन जीवनदायिनी स्वास्थ्य विभाग के महासचिव ब्रिजेश कुमार ने पत्र लिखकर मांग की है कि एंबुलेंस में खुद के सुरक्षा के लिए उपकरण जैसे- मास्क, ग्लब्स, सेनेटाइजर, पीपीई, हैंडवाश आदि कमियों को पूरा किया जाए।

पत्र में आने कहा गया कि कोविड-19 के समय प्रोत्साहन राशि देते हुए तुरंत सभी कर्मचारियों की सैलरी दी जानी चाहिए। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार द्वारा 50 लाख का बीमा देने का जो वादा हुआ है, वह तत्काल प्रभाव से हमारे एंबुलेंस कर्मचारियों पर लागू की जाए। कर्मचारियों ने कहा कि सभी मांगों की पूर्ति नहीं की जाती है तो हम सभी मजबूर होकर 31 मार्च को कार्य स्थगित कर घर लौट जाएंगे। यानी एंबुलेंस कर्मचारियों ने सीधे हड़ताल पर जाने की धमकी दे दी है।

उल्लेखनीय है कि देश में कोरोना वायरस के मामले बढ़कर 1251 हो गए हैं। मीडिया रिपोर्टस में आंकड़ा 1400 के पार बताया जा रहा है। भारत में खतरनाक वायरस के संक्रमण से जान गंवाने वाले लोगों का आंकड़ा भी बढ़कर अब 32 हो गया है। आज यानी मंगलवार को खबर लिखे जाने तक 70 नए मामले सामने आ चुके हैं।

प्रदेशवार बात करें तो तेलंगाना (77), बिहार (15), गुजरात (73), हिमाचल (3), कर्नाटक में (91), पुडुचेरी (1), पंजाब (41), तमिलनाडु (67), चंडीगढ़ (13), जम्मू कश्मीर (49), पश्चिम बंगाल (22), दिल्ली (97), हरियाणा (36), मध्य प्रदेश (66), ओडिशा (3), राजस्थान (83), उत्तर प्रदेश (96), महाराष्ट्र (230), लद्दाख (13), केरल (234), आंध्र प्रदेश (23) और उत्तराखंड 7 मामलों की पुष्टि हुई है।

जनसत्ता से साभार

भूली-बिसरी ख़बरे