एनएफएल मज़दूरों का क्रमिक धरना आंदोलन शुरू

एक हज़ार से अधिक संविदा कर्मचारी, कई सालों से संघर्ष कर रहे हैं

मध्य प्रदेश के गुना विजयनगर में नेशनल फर्टिलाइजर्स लिमिटेड( एनएफएल) मजदूर यूनियन के नेतृत्व में सोमवार 10 फरवरी से क्रमिक धरना आंदोलन शुरू किया गया है। यह अंदोलन 14 फरवरी तक जारी रहेगा। 14 फरवरी को एसडीएम कार्यालय राघौगढ़ के समक्ष रैली निकालकर प्रदर्शन कर आंदोलन किया जाएगा। इस प्लांट में एक हज़ार से अधिक संविदा कर्मचारी हैं। जो अपने हक़ के लिए पिछले कई सालों से संघर्ष कर रहे हैं लेकिन प्रबंधन कर्मचारियों की मांग पर कोई ध्यान नहीं दे रहा है।

नेशनल फर्टिलाइजर्स लिमिटेड की विजयपुर इकाई, मैसर्ज नेशनल फर्टिलाइजर्स लिमिटेड की चार इकाइयों में से एक है। यह निगम केंद्र सरकार के अधीन है। यहाँ कर्मचारी अपने बकाया एरियर यानी अपने हक़ के पैसे के लिए संघर्ष कर रहे हैं। आपको बता दें यह उपक्रम केंद्र के अधीन है इसलिए इसमें काम करने वाले कर्मचारियों पर केंद्र द्वारा निर्धारित न्यूनतम वेतन लागू होता है लेकिन प्रबंधन मज़दूरों को राज्य द्वारा निर्धारित न्यूनतम वेतन दे रहा था। क्योंकि राज्य का न्यूनतम वेतन केंद्र से कम हैं।

इसको लेकर कर्मचारियों ने संघर्ष किया उसके बाद प्रबंधन केंद्र द्वारा निर्धारित न्यूनतम वेतन देने के लिए राजी हुआ और मज़दूरों को केंद्र द्वारा निर्धारित न्यूनतम वेतन दे रहा है। लेकिन कर्मचारियों को यह वेतन जनवरी 2017 से मिलना था लेकिन प्रबंधन अप्रैल 2018 से दे रहा है। कर्मचारियों के मुताबिक उनका 14 महीने का एरियर है जिसका भुगतान प्रबंधन नहीं कर रहा है।

जबकि लेबर कोर्ट ने भी मज़दूरों के हक़ में फैसला दिया है। प्रबंधन का कहना है कि जिन ठेकदारों के अंदर यह काम करते थे वो जा चुके हैं। इसपर श्रम अधिकारी ने उन्हें फटकारते हुए कहा की कर्मचारियों को पैसा देना तुम्हारा काम न कि ठेकदार का। इसके बाद भी कंपनी मज़दूरों का पैसा नहीं दे रही है। मज़दूर यूनियन के मुताबिक एक कर्मचारी का करीब 30 हज़ार रुपये का बकाया है तो मोटामोटी तीन करोड़ रूपये की राशि प्रबंधन पर बाकी है। जो वो देना नहीं चाहता हैं।

इसके आलावा कई कर्मचारी यहाँ 20 सालो से अधिक से काम कर रहे है लेकिन उनको स्थायी नहीं किया जा रहा है। जोकि सीधे सीधे श्रम कानूनों का उल्लंघन है क्योंकि स्थाई स्वरूप के कामों के लिए आप संविदा पर कर्मचारी नहीं रख सकते है,परन्तु यहाँ यह सब किया जा रहा है। एनएफएल यूनियन के महासचिव डॉ. विष्णु शर्मा ने न्यूज़क्लिक से बात करते हुए कहा कि एनएफएल में कार्यरत श्रमिकों की समस्याएं लंबे समय से लंबित बनी हुई हैं। उन्होंने कहा कि यहाँ के मज़दूर काफी लंबे समय से अपनी मांगों व समस्याओं के समाधान के लिए कई पत्र प्रबंधन को देकर अनुरोध किया गया तथा प्रबंधन से चर्चा भी की गई परंतु प्रबंधन इसे अनदेखा करता रहा है। मज़दूरों की मांग है कि कारखाने में कार्यरत 1000 श्रमिकों को जनवरी 2017 से मार्च 2018 तक के 14 माह के एरियर के भुगतान की है। दूसरी मुख्य समस्या ठेकेदार ब्रजेश एंड कंपनी द्वारा बोनस राशि का पूरा भुगतान न करना है। तीसरी समस्या ठेकेदार लाखन सिंह द्वारा रेलवे रेक सफाई के मजदूरों को शासन द्वारा निर्धारित न्यूनतम वेतन का भुगतान न देने की रही।

आपको बता दें इस प्लांट में लगभग 14 सौ से अधिक कर्मचारी काम करते है जिसमे एक हज़ार कर्मचारी संविदा पर हैं। जैसा की अधिकांश संविदा कर्मचारियों के साथ होता है उन्हें अपने काम का सही दाम नहीं मिलता या उनके श्रमिक होने के अधिकारों पर भी हमला किया जाता है। यहाँ भी इसी तरह की घटना होती है। संविदा कर्मचारियों ने बताया कि जब कोई मज़दूर अपने अधिकार या ठेकदार की शिकायत करता है तो प्रबंधन उसकी शिकायत पर ध्यान देने बजाय उसे ही धमका दिया जाता है ,कई केस में तो मज़दूरों को नौकरी से हटा दिया जाता है। श्रमिकों के साथ आए दिन गाली गलौच करते हुए अभद्रता पूर्ण व्यवहार किया जा रहा है।

%d bloggers like this: