सफल रही राष्ट्रव्यापी हड़ताल

मोदी सरकार की सरकारी कर्मचारियों की धमकी, कई जगह रैली की अनुमति ना मिलने और ख़राब मौसम के बावजूद मेहनतकश-मज़दूर, किसान, छात्र व आम जन विरोधी नीतियो के ख़िलाफ़ पूरे देश में प्रदर्शन हुए

मोदी सरकार की मज़दूर व आम जन विरोधी नीतियो, श्रम क़ानूनी अधिकारों को छीनने, छंटनी-बंदी, सार्वजनिक कंपनियों की बिक्री, रेलवे, रक्षा, कोयला समेत अन्य क्षेत्रों में 100 प्रतिशत एफडीआई और धार्मिक आधार पर जनता को बांटने वाली सीएए, एनआरसी, एनपीआर आदि के ख़िलाफ़ राष्ट्रव्यापी हड़ताल सफल रही। देशभर में मज़दूरों-कर्मचारियों के साथ किसान, छात्र भी हड़ताल के साथ प्रदर्शनों में शामिल रहे।

 8 जनवरी को केंद्रीय ट्रेड यूनियनों के भारत बंद के आह्वान पर दिल्ली-एनसीआर, पंजाब, हरियाणा, उत्तरप्रदेश, उत्तराखंड, बिहार, झारखण्ड, राजस्थान, मध्यप्रदेश से लेकर पूर्वोत्तर, ओडिशा, पुडुचेरी, केरल, कर्नाटक, तेलंगाना, आंध्रा, महाराष्ट्र में बंद की स्थिति रही। इस दौरान बैंक, जीवन बीमा निगम, डाक—तार, भेल, कोल, ऑयल, निकाय और निगमों समेत अनेक प्रमुख सेवाओं के दफ्तर बंद रहे। कई जगहों पर यातायात और परिवहन व रेल सेवाएँ प्रभावित रहीं।

गुड़गांव-मानेसर-धारूहेड़ा- नीमराना औद्योगिक क्षेत्र

देशव्यापी मज़दूर हड़ताल में गुड़गांव-मानेसर-धारूहेड़ा- नीमराना औद्योगिक क्षेत्र की विभिन्न यूनियनों ने भाग लिया जिसमें प्रमुख रूप से होण्डा मानेसर, डाईकिन नीमराना, रिको धारूहेड़ा, मुंजाल शोवा मानेसर, नपिनो आटो , हेमा इंजीनियरिंग, एमके आटो, क्यूएच टालब्रोस, कपारो, शिवम् आटो बिनोला, माएक्रोटेक, पीएन राईटर युनियंन , सनबीम आटो , मुंजाल आटो आदी शामिल हैं। हड़ताल के बाद मानेसर में मज़दूर सभा का आयोजन किया गया। यहाँ केन्द्रीय ट्रेड यूनियनों के साथ मासा के घटक मज़दूर सहयोग केंद्र व इंक़लाबी मज़दूर केंद्र के लोग भी मौजूद रहे।

दूसरी ओर गुड़गांव कमला नेहरू पार्क में सीटू से सम्बद्ध रेहड़ी-पटरी मज़दूर यूनियन, आंगनवाड़ी, मज़दूर, सफाई कर्मचारी एकजुट हुए थे, जहाँ मज़दूर सहयोग केंद्र के साथी भी मौजूद रहे। बेलसोनिका और मारुति यूनियनों ने राजीव चौक से रैली का कार्यक्रम लिया।

दिल्ली

दिल्ली के मायापुरी, वजीराबाद औद्योगिक क्षेत्रों में विरोध मार्च निकला।

मायापुरी में आइएफ्टू सर्वहारा ने तो कापसहेड़ा और वज़ीरपुर में संग्रामी मज़दूर यूनियन ने अभियान निकलकर सभाएं कीं।

हरियाणा

फरीदाबाद में बारिश के बावजूद इंक़लाबी मज़दूर केंद्र के नेतृत्व में मजदूरों ने हौसले के साथ प्रदर्शन किया।

कैथल में मासा के घटक संगठन जन संघर्ष मंच हरियाणा, मनरेगा मजदूर यूनियन व निर्माण कार्य मजदूर मिस्त्री यूनियन ने हड़ताल के समर्थन में प्रदर्शन किया।

कुरुक्षेत्र में राष्ट्रव्यापी हड़ताल के समर्थन में मासा के घटक जन संघर्ष मंच हरियाणा, निर्माणकार्य मजदूर मिस्त्री यूनियन व मनरेगा मजदूर यूनियन के बैनर तले सैकड़ों मजदूर केंद्र व हरियाणा सरकार की जन विरोधी नीतियों के खिलाफ नारे लगाते हुए पुराने बस अड्डा से शहर के बाजार में से होते हुए नगर पालिका परिसर में हड़ताली मजदूर कर्मचारियों में शामिल हुए।

जीन्द में मासा के घटक जन संघर्ष मंच हरियाणा, मनरेगा मजदूर यूनियन, निर्माणकार्य मजदूर मिस्त्री यूनियन ने राष्ट्रव्यापी मजदूर हड़ताल के दौरान जोरदार प्रदर्शन किया।

रोहतक में आइसिन ऑटोमोटिव हरियाणा मज़दूर यूनियन ने प्रदर्शन किया।

उत्तराखंड

रुद्रपुर में विपरीत मौसम के बावजूद स्थानीय अंबेडकर पार्क में श्रमिक संयुक्त मोर्चा के बैनर तले धरना प्रदर्शन हुआ, जिसमें विभिन्न मज़दूर यूनियनों व संगठनों ने भागीदारी की, जिसमे मजदूरों के अलावा आशा कार्यकर्ताओं ने भी शानदार भागीदारी निभाई।

सभा के अंत में राष्ट्रपति के नाम 13 सूत्रीय माँगों का ज्ञापन भेजा गया, जिसे प्रशासन की ओर से नगर कोतवाल ने प्राप्त किया। ज्ञापन में श्रमिक संयुक्त मोर्चा, ऊधम सिंह नगर, मजदूर अधिकार संघर्ष अभियान (मासा), एक्टू, मज़दूर सहयोग केंद्र, इंकलाबी मज़दूर केंद्र, उत्तराखंड आशा हेल्थ वर्कर्स यूनियन, भाकपा माले, क्रांतिकारी लोक अधिकार संगठन, इंटक, एटक के प्रतिनिधियों ने हस्ताक्षर किए।

पंतनगर बारिश के बावजूद इंक़लाबी मज़दूर केंद्र और ठेका मजदूर कल्याण समिति पंतनगर के बैनर तले छोटी मार्केट पंतनगर से मजदूर वस्तियों से होते हुए जुलूस निकाला गया और शहीद स्मारक पर नुक्कड़ सभा में मोदी सरकार का पुतला फूंका।

हरिद्वार में भेल मजदूर ट्रेड यूनियन केंद्र सरकार द्वारा भेल के विनिवेश और श्रम कानूनों में घोर मजदूर विरोधी बदलाओ के खिलाफ सफल हड़ताल में शामिल सभी हड़ताली मजदूरों को लाल सलाम पेश किया।

रामनगर में इंक़लाबी मज़दूर केंद्र और डेल्टा, कॉम्पैक्ट व स्मार्ट श्रमिक संगठन के बैनर तले एसडीएम परिसर रामनगर में सभा हुई और शहर में एक जुलूस निकाला।

दूसरी ओर रामनगर में हड़ताल का नैतिक समर्थन करते हुए राष्ट्रीय पुरानी पेंशन बहाली मंच उत्तराखण्ड के बैनर तले पुरानी पेंशन की बहाली की मांग को लेकर एसडीएम कार्यालय रामनगर में धरना ,प्रदर्शन के साथ तहसीलदार के माध्यम से प्रधानमंत्री को ज्ञापन भेजा।

राजस्थान

जयपुर में केंद्रीय श्रम संगठनों के के नेतृत्व में शहीद स्मारक से एक विशाल रैली के रूप में सिविल लाइन फाटक पर सभा व प्रदर्शन किया ।

उत्तरप्रदेश

राजधानी लखनऊ में रैली के प्रतिबंधों के बीच प्रदर्शन

उत्तर प्रदेश में करीब डेढ़ करोड़ कर्मचारियों ने काम ठप रखा और विरोध सभाओं का आयोजन किया। बिजली कर्मचारियों की राष्ट्रीय समन्वय समिति ‘नेशनल कोऑर्डिनेशन कमेटी ऑफ एलेक्ट्रीसिटी एम्प्लाइज एंड इंजीनियर्स’ (एनसीसीओईईई) के आह्वान पर उत्तर प्रदेश के ऊर्जा निगमों के तमाम कर्मचारियों, जूनियर इंजीनियर तथा अभियन्ताओं ने कार्य बहिष्कार कर अपने-अपने दफ्तरों के बाहर प्रदर्शन और सभाएं कीं।

मऊ में राष्ट्रव्यापी हड़ताल के समर्थन में इंक़लाबी मज़दूर केंद्र, वाम मोर्चा व विभिन्न मज़दूर संगठनों के लोगों ने प्रदर्शन किया।

इलाहबाद में प्रदर्शन

बदायूँ के सामाजिक व जनवादी संगठनों द्वारा गठित संविधान रक्षक सभा ने बंद का आह्वान किया था। जिसमे ककराला, सहसवान में बंद सफल रहा। बदायूँ में कुछ व्यापारियों ने अपनी दुकानें बंद कर बन्द का समर्थन किया।

ओबरा, सोनभद्र में ओबरा नगर पंचायत पर पटरी दुकानदार एसोसिएशन, ठेका मजदूर यूनियन व मज़दूर किसान मंच ने प्रदर्शन किया और दिनकर कपूर संयुक्त संघर्ष समिति के कार्य बहिष्कार में भी सम्मलित हुए।

बिहार

सासाराम (रोहतास) में मासा के घटक ग्रामीण मजदूर यूनियन, बिहार और बिहार राज्य निर्माण कामगार यूनियन ने जिला मुख्यालय सासाराम और रोहतास जिला के प्रखंड कार्यालय गोड़ारी में प्रदर्शन कर बंद को सफल बनाया।

पटना का दृश्य: केंद्रीय ट्रेड यूनियनों के आह्वान पर स्थानीय ट्रेड यूनियन और मज़दूर संगठन के साथ IFTU (सर्वहारा) पटना के डाकबंगला चौराहा पर प्रदर्शन में शामिल रहा।

गुजरात

गुजरात में कई हिस्सों में कारखाने में उत्पादन प्रभावित हुआ।

अहमदाबाद में मासा, टीयूसीआई, जीएमएस, व जीएफटीयू के नेतृत्व में प्रदर्शन हुआ।

पश्चिम बंगाल केन्द्रीय ट्रेड यूनियनों के अलावा AWSRU, IFTU, IFTU (सर्वहारा), NTUI, SWCC, TUCI, कनोडिया जूट मिल संग्रामी श्रमिक यूनियन व खेत मज़दूर यूनियन ने साझे तौर पर हड़ताल को सफल बनाने के लिए धरना-प्रदर्शन किया।

Kolkata: Police detain SUCI activists who were staging a road blockade in support of the trade unions' Bharat Bandh, in Kolkata, Wednesday, Jan. 8, 2020. (PTI Photo/Swapan Mahapatra) (PTI1_8_2020_000127B)

इस दौरान मालदा जिले के सूजापुर इलाके में प्रमुख सड़क अवरुद्ध हुआ, बर्दवान जिले में सड़कें व रेलवे पटरियों अवरुद्ध रहीं, जिससे रेल यातायात बाधित हुआ। जाधवपुर में रेलवे अवरुद्ध रहा। कोलकाता के सेंट्रल एवेन्यू इलाके में पुलिस ने बल प्रयोग किया, दमदम तथा लेक टाउन इलाकों में वाम समर्थकों और तृणमूल समर्थकों में झड़प हुई। उत्तरी 24 परगना जिले के बराकपुर और सोडेपुर समेत जिले के औद्योगिक हिस्से में रैलियां निकालीं और सड़कों तथा रेल अवरुद्ध हुईं। सियालदह, हावड़ा और खड़गपुर सेक्शन पर रेल सेवाएं बाधित हुई। रिजर्व बैंक के कर्मचारी भी प्रदर्शन में शामिल हुए। राज्य में जूट मिलें भी बंद रहीं।

दार्जलिंग के चाय बगान इलाके में भी बंद के साथ प्रदर्शन हुए।

उड़ीसा

भुवनेश्वर व राज्य के अन्य इलाकों में केन्द्रीय यूनियनों के आलावा TUCI व मासा के नेतृत्व में प्रदर्शन हुए।

हड़ताल के कारण समूचे ओडिशा में भी बुधवार को जनजीवन प्रभावित रहा. राज्य के कई हिस्सों में ट्रेन एवं बस सेवाएं प्रभावित रहीं. राज्य के अधिकतर हिस्सों में दुकानें और व्यावसायिक प्रतिष्ठान बंद रहे. कई जिलों में शैक्षणिक संस्थान भी बंद रहे

असम में आम जनजीवन प्रभावित रहा और सड़कों से वाहन नदारद रहे तथा दुकानें भी बंद रहीं. त्रिपुरा में ट्रेड यूनियनों की हड़ताल का मिला-जुला असर रहा। मध्य प्रदेश में बैंकिंग कार्य के साथ परिवहन, आयकर, और डाक सेवाएं भी प्रभावित हुई।

केरल में करीब-करीब हर जगह हड़ताल का असर दिखा। केरल राज्य सड़क परिवहन निगम (केएसआरटीसी) और निजी आपरेटरों की बसें सुबह से ही सड़कों पर नहीं दिखीं।

महाराष्ट्र के भिवांडी में प्रदर्शन

आंध्र प्रदेश के प्रमुख शहरों में वाम दलों और ट्रेड यूनियनों द्वारा रैलियां निकाली गईं।

गोवा में जनजीवन प्रभावित रहा। गोवा कन्वेंशन ऑफ वर्कर्स के बैनर तले विभिन्न मजदूर संगठनों ने पणजी के आजाद मैदान में जनसभा की।

तेलंगाना में IFTU व मासा के बैनरतले कोल खदानों, औद्द्योगिक क्षेत्रो सहित कई जगह प्रदर्शन हुए। पूरे तेलगांना में बैंकिंग सेवाओं पर खासा असर पड़ा।

कर्नाटका में TUCI, कर्नाटका स्टेट लोडिंग-अनलोडिंग वर्कर्स यूनियन, मासा की ओर से प्रदर्शन हुए। केन्द्रीय यूनियनों के नेतृत्व में बंगलुरु में टाउन हॉल से फ्रीडम पार्क तक रैली निकाली। राज्य के कई हिस्सों में प्रदर्शन हुए और मार्च भी निकाले गए।

पंजाब

ट्रेड यूनियन कर्मचारियों ने पंजाब में लुधियाना, जालंधर और बठिंडा समेत कई जगहों पर विरोध प्रदर्शन किया और अपनी मांगों के समर्थन में सरकार के खिलाफ नारेबाजी की।

देशव्यापी हड़ताल में छात्र हड़ताल की कुछ तस्वीरे

%d bloggers like this: