कामरेड सत्येंद्र कुमार की याद में श्रध्दांजलि सभा

31 दिसम्बर 2019, लखनऊ। नागरिक परिषद के तत्वावधान में प्रसिद्ध सामाजिक व राजनैतिक कार्यकर्त्ता कामरेड सत्येंद्र कुमार की याद में श्रध्दांजलि सभा का आयोजन शहीद शोध केन्द्र, सदर में हुआ। कॉमरेड सतेन्द्र लंबे समय से वे गले के कैंसर से जूझ रहे थे।  बीमारी के बावजूद उनका जुझारूपन व सक्रियता अंतिम समय तक बरकरार रही।

श्रध्दांजलि सभा में बोलते हुए एआईडब्लूसी के राष्ट्रीय अध्यक्ष ओ पी सिन्हा ने कहा कि सत्येन्द्र कुमार का 70 वर्ष की अवस्था में लम्बी बीमारी के बाद 29 दिसम्बर 2019 को निधन हो गया। उन्होंने कहा कि वे हमारे बीच नही रहे लेकिन उनकी यादें, उनके विचार और जन संघर्षों के प्रति उनकी निष्ठा हमें सतत प्रेरणा देती रहेगी।

नागरिक परिषद के क्रान्ति कुमार शुक्ला ने कहा कि सत्येन्द्र जी की जीवन यात्रा लगातार न्याय,सद्भाव और इंसानियत के लिये सतत संघर्षों का एक जीवंत दस्तावेज है।

नागरिक परिषद के संयोजक रामकृष्ण ने कहा कि सत्येन्द्र जी मूलतः बलिया के रहने वाले थे तथा उनके राजनैतिक संघर्ष की शुरुआत जे पी आन्दोलन के दौरान हुई, फिर वे वामपंथ के सम्पर्क मे आये और आजीवन समर्पित वामपंथी रहे। उन्होंने कहा कि लखनऊ शहर की कई संस्थाओं को खड़ा करने में उनकी मेहनत व लगन का बड़ा योगदान है। उन्होंने कहा कि वे 2014 मे वे इंडिया अगेंस्ट करप्शन आंदोलन में शामिल होकर लखनऊ में इस जनांदोलन की नेतृत्वकारी भूमिका मेंं आये और नगर के ही नही बल्कि देश के जनांदोलनकारियों में उनके नेतृत्व की पहचान बनी।

वरिष्ठ अधिवक्ता सी बी सिंह ने कहा कि सत्येन्द्र जी ने अपने जीवन मेंं गरीबों, वंचितों, किसानों और श्रमिकों का पक्ष चुना और इसी राह पर चले तथा जीवन के अन्तिम क्षणों तक उनकी चिन्ता का विषय समाज और सामाजिक आंदोलन ही था। सृजनयोगी आदियोग गीत के माध्यम से अपनी श्रध्दांजलि दिया।

इस अवसर पर अखिलेश सक्सेना, अनमोल, मो मसूद, एडवोकेट वीरेन्द्र त्रिपाठी, सी एम शुक्ला, अरूणा सिंह, हरजीत सिंह भसीन, प्रलेस के डाॅ नरेश कुमार, जसम के कौशल किशोर, इप्टा के राकेश, रोडवेज यूनियन हेमेंद्र मिश्रा,चबूतरा थियेटर के महेश देवा, शहीद शोध केन्द्र के जय प्रकाश, किसान सेना के डाॅ मलखान सिह, सुकृति के जय प्रकाश, छात्र नेता ज्योति कुमार,हरिभान यादव, उमेश कुमार, अरविन्द कुमार, शिव कुमारी, सृजनयोगी आदियोग, मंदाकिनी, राजीव कुमार, राजीव रंजन राजू सहित अन्य लोगों ने अपने प्रिय साथी को याद कर उन्हें श्रध्दांजलि दिया।

%d bloggers like this: