होंडा मानेसर के ठेका मजदूरों ने निकाली रैली।

होंडा मानेसर के ठेका मजदूरों ने आज हीरो होंडा चौक गुड़गांव से लेकर डीसी ऑफिस गुड़गांव तक प्रतिवाद रैली निकाली। इससे पहले मजदूरों ने मानेसर से गुड़गांव तक मोटरसाइकिल रैली निकाली। रैली में ट्रेड यूनियन काउंसिल, मारुति, बेलसोनिका सहित अन्य प्लांटों की यूनियनें और जन संगठनों के प्रतिनिधि शामिल हुए।

गौरतलब है कि होंडा मानेसर के 2500 ठेका मजदूर अवैध छंटनी के खिलाफ 5 नवंबर से संघर्षरत है। प्लांट के परमानेंट मजदूर भी ठेका मजदूरों के साथ थे जो 25 नवंबर को अंडरटेकिंग भरकर प्लांट में काम पर वापस चले गए। फिलहाल ठेका मजदूर प्लांट के सामने खाली पार्क में धरने पर बैठे हैं। प्रबंधन ने यूनियन के प्रधान सहित 6 श्रमिकों को निलंबित कर दिया है और यूनियन का मांग पत्र पिछले 1 साल से लंबित है।

गुडगांव डीसी ऑफिस पर रैली के समापन के बाद एसडीएम ने बाहर आकर ज्ञापन लिया। सभा को संबोधित करते हुए श्रमिक नेताओं ने कहा की इस पूरे औद्योगिक क्षेत्र में कंपनी मालिकों द्वारा श्रम विभाग की शह पर श्रम कानूनों की लगातार धज्जियां उड़ाई जा रही हैं। मुंजाल शोवा, सत्यम ऑटो, कंसाई नैरोलैक, मारुति कपारो, शिवम ऑटोटेक, आर्कोटेक बावल, मेट्रो ऑर्टम सिधरावली, आर पी जी बिनोला सभी कंपनियों में मांग पत्र लंबित है प्रबंधन द्वारा त्रिपक्षीय समझौते का उल्लंघन किया जा रहा है ठेका मजदूरों को लगातार निकाला जा रहा है मगर सरकार और श्रम विभाग चिट्ठी साथ में बैठे हैं। अगर तत्काल मजदूरों की मांगे नहीं मानी गई तो धीरे-धीरे मजदूरों का गुस्सा इतने बड़े आंदोलन का रूप लेगा जिसे संभालना प्रशासन और प्रबंधन के बस की बात नहीं होगी। वक्ताओं ने कहा कि इस मजदूर विरोधी सरकार के खिलाफ संगठित होकर एक व्यापक आंदोलन करना होगा इसके अलावा कोई रास्ता नहीं है।

%d bloggers like this: