महिंद्रा सीआईई में 9000 रुपए का वेतन समझौता

5 साल के लिए हुए समझौते के तहत पहले साल 35 सौ रुपए मिलेंगे

रुद्रपुर (उत्तराखंड)। महिंद्रा सीआईई ऑटोमोटिव लिमिटेड की लालपुर इकाई में महिंद्रा सीआईई श्रमिक संगठन और प्रबंधन के बीच 5 वर्ष का दीर्घकालिक वेतन समझौता संपन्न हो गया है। द्वीपक्षीय वार्ता में सहमति के बाद सहायक श्रमायुक्तके समक्ष समझौते पर हस्ताक्षर हुए।

इसे भी पढ़ें- मज़दूरों की अजीब दास्तां है ये…

यूनियन ने बताया- इस समझौते से क्या मिला

यूनियन द्वारा दी गई जानकारी के अनुसार यह समझौता रुपए 9 हजार रुपए सीटीसी में 2019 से 2023 तक पाँच साल के लिए है।

इसके तहत पहले साल, 2019 में 3500 रुपए, दूसरे साल 2000 रुपए, तीसरे साल 1500 रुपए और अंतिम 2 साल 1000-1000 रुपए की वेतन बृद्धि होगी।

इसके साथ श्रमिकों को 4.9spm की जगह 5.1spm उत्पादन देने की सहमति बनी।

इसे भी पढ़ें- डेल्टा मजदूरों का 3 वर्षीय समझौता संपन्न

इसके अलावा यह भी सहमति बनी कि समझौता 1 जनवरी 2019 से लागू होगा और 9 माह के एरियर का भुगतान दो किस्तो में होगा- पहली क़िस्त अक्टूबर माह के वेतन और दूसरी क़िस्त दिसम्बर माह के वेतन के साथ प्राप्त होगा।

-बढ़ोत्तरी का 60% बेसिक में 40 % अन्य भत्तों में समायोजित होगा।
-ईएसआई के दायरे से बाहर निकलने वाले श्रमिकों को उसकी सभी सुविधाएं कंपनी के द्वारा दी जाएंगी।
-अर्ध कुशल श्रमिकों को कुशल श्रमिक की श्रेणी में पदोन्नति होगी।
-प्रत्येक माह वेतन का भुगतान अब 7 की जगह 5 तारीख को होगा।
-प्रबन्धन किसी श्रमिक के साथ द्वेषपूर्ण भावना से कोई भी कार्रवाई नहीं करेगा।

इसे भी पढ़ें- अन्याय : महिंद्रा सीआईई के मज़दूर को भेजा जेल

समझौते पर यूनियन यूनियन की ओर से संदीप सिंह, अर्जुन प्रसाद, मनीष तिवारी, राकेश कुमार, देवेंद्र सिंह, मनवर सिंह, दीपक प्रसाद व मुकेश कुमार ने तथा प्रबन्धन की ओर से प्लांट हेड एल एम शुक्ल, एचआर हेड संजीव वर्मा व मैनुफेक्चरिंग हेड सुशील भारद्वाज ने हस्ताक्षर किए।

पंतनगर प्लांट का समझौता 2020 में होना है

ज्ञात हो कि अगले वर्ष महिंद्रा सीआईई ऑटोमेटिक लिमिटेड के पंतनगर प्लांट में माँग पत्र पर समझौता होना बाकी है। क्योंकि दोनों प्लांट में एक ही यूनियन है इसलिए उस समझौते को भी इसी यूनियन को संपन्न करना है। प्रबंधन ने इस बात पर सहमति जताई है की पंतनगर प्लांट का माँग पत्र आने के बाद जनवरी माह में उस पर वार्ता शुरू होगी।

इसे भ पढ़ें- उत्तराखंड : बंद होती कंपनियां, संघर्षरत मजदूर

यूनियन अध्यक्ष सहित 4 मज़दूर नेता 2017 से हैं बर्खास्त, समझौता था चुनौतीपूर्ण

यहाँ यह भी उल्लेखनीय है कि वर्ष 2017 में पंतनगर प्लांट के माँगपत्र और उस विवाद के दौरान 10 श्रमिकों के निलंबन पर एक बड़ा और जुझारू आंदोलन चला था, जिसमें यूनियन अध्यक्ष संजीत विश्वास, हेम चंद, कमलेश मर्तोलिया व् नवनीत बर्खास्त किए गए थे। जिनका विवाद श्रम न्यायालय व हाई कोर्ट में चल रहा है।

मजदूरों का मनोबल इस आंदोलन के बाद से ही नीचे रहा है। ऐसे में यूनियन के लिए यह समझौता करना एक चुनौती भी थी। हालांकि पंतनगर प्लांट का समझौता उससे बड़ी चुनौती होगी, जिसे यूनियन को ध्यान में रखना होगा।

इसे भी पढ़ें- वोल्टास प्रबंधन ने 8 मज़दूरों की कर दी गेट बंदी

एक कठिन परिस्थिति में समझौते के लिए मजदूर सहयोग केंद्र ने यूनियन और मजदूरों को बधाई दी है।

1 thought on “महिंद्रा सीआईई में 9000 रुपए का वेतन समझौता

Comments are closed.

भूली-बिसरी ख़बरे

%d bloggers like this: