मजदूर संगठनों ने एनएमडीसी प्रबंधन को सौंपा पत्र, गरमाएगा विनिवेशीकरण का मुद्दा

आल इंडिया वर्कर्स फेडरेशन स्टील प्लांट के विरोध में

जगदलपुर। नगरनार में निर्माणाधीन एनएमडीसी ऑयरन एंड स्टील प्लांट के विनिवेशीकरण के केन्द्र सरकार के फैसले के खिलाफ मजदूर संगठन एक बार फिर लामबंद होने लगे हैं। ऑल इंडिया वर्कर्स फेडरेशन ने पहले ही साफ कर दिया है कि स्टील प्लांट का विनिवेशीकरण उसे मंजूर नहीं है।

फेडरेशन ने इस मुद्दे पर चर्चा के लिए नागपुर में चार दिन पहले बैठक भी बुलाई थी लेकिन दंतेवाड़ा विधानसभा उपचुनाव के कारण बैठक की तिथि आगे बढ़ा दी गई है। फेडरेशन अगले माह दोबारा बैठक बुलाएगा। इस बीच फेडरेशन से संकेत मिलने के बाद यहां नगरनार स्टील प्लांट में सक्रिय दो सबसे बड़े संगठन संयुक्त मजदूर इस्पॉत संघ और स्टील श्रमिक यूनियन ने शुक्रवार को राज्यपाल के नाम पर ज्ञापन प्रेषित कर विनिवेशीकरण पर विरोध जता दिया है।

शनिवार सुबह एनएमडीसी स्टील प्लांट नगरनार के दफ्तर के बाहर एकत्र होकर मजदूर संगठनों ने विनिवेशीकरण के फैसले के खिलाफ जमकर प्रदर्शन किया। नारेबाजी की गई और इस मौके पर मजदूर नेताओं ने सदस्यों को संबोधित भी किया। संयुक्त मजदूर इस्पॉत संघ के सचिव महेन्द्र जॉन का कहना था कि केन्द्र सरकार को स्टील प्लांट के विनिवेशीकरण की जल्दी है। विनिवेशीकरण के नाम पर इसे बेचने की तैयारी है। देश के इतिहास में ऐसा पहली बार होगा जब कोई संयंत्र जो बनकर तैयार भी नहीं हुआ है, उसे बेचने की तैयारी की जा रही है। बस्तर की जनता ने एनएमडीसी पर विश्वास कर स्टील प्लांट के लिए जमीन दी है। यह बात एनएमडीसी और केन्द्र सरकार दोनों को समझना होगा।

संघ के अध्यक्ष संतराम सेठिया ने कहा कि मजदूर संगठन विनिवेशीकरण का विरोध तेज करेंगे। इसके लिए जिस स्तर तक जाकर संघर्ष करना होगा किया जाएगा। प्रदर्शन के बाद एनएमडीसी प्रबंधन के नाम संबोधित ज्ञापन स्थानीय कंपनी प्रबंधन को सौंपा गया।

भूली-बिसरी ख़बरे

%d bloggers like this: