ऐ भगत सिंह तू जिंदा है, हर एक लहू के कतरे में…

पंतनगर, सितारगंज, नीमराना, कुरुक्षेत्र, दिल्ली में विरासत को आगे बढ़ाने के संकल्प के साथ मना शहीदे आज़म भगत सिंह का जन्म दिवस

सिडकुल, पंतनगर में माइक्रोमैक्स धरना स्थल पर हुआ कार्यक्रम

पन्तनगर (उत्तराखंड) । भारी बारिश के बीच आज शहीदे आजम भगत सिंह के 112 वें जन्मदिवस पर श्रमिक संयुक्त मोर्चा, ऊधम सिंह नगर के नेतृत्व में सिडकुल-पन्तनगर के माइक्रोमैक्स कम्पनी के धरनारत व संघर्षरत श्रमिकों के धरना स्थल पर शहीद भगत सिंह को माल्यार्पण कर सभा की गयी।

सभा में उपस्थित वक्ताओं ने कहा कि शहीदे आजम भगत सिंह का जन्मदिन मनाने का मतलब यह नहीं कि हमने नारे लगाये व फूल माला शहीद भगत सिंह की फोटो पर चढ़ा दिए, बल्कि हमें उनके विचारों को अपने अन्तर्मन से अपने मन व दिल में समावेश करना पड़ेगा।

आज देश में मजदूर वर्ग के श्रम अधिकारों पर केन्द्र सरकार द्वारा हमला व सरकारी संस्थानों का निजीकरण, मजदूरों का दमन काफी तेज हो गया है, साम्प्रदायिक ताकतें हावी हैं। अभी सचेते नहीं तो आने वाले समय में स्थितियां और ज्यादा घातक होंगी। हमें इस पर सोचना व समझना चाहिए और एकताबद्ध संघर्ष को आगे बढ़ाने की तैयारी में जुटाना होगा। भगत सिंह को यही सच्ची श्रद्धांजलि होगी।

वक्ताओं ने आज के दौर में भगत सिंह की छवि बिगड़ने की साजिशों को उठाया और एनडीटीवी में भागर सिंह पर गलत तथ्यों वाली खबर की मुखालफत की और इसके ख़िलाफ़ भी भगत सिंह के वारिसों को आगे आने का आह्वान किया।

इसे भी देखें- आज का दौर और शहीदे आज़म भगत सिंह

सभा में श्रमिक संयुक्त मोर्चा, ऊधम सिंह नगर, मजदूर सहयोग केन्द्र, इंकलाबी मजदूर केन्द्र, ब्रिटानिया श्रमिक संघ, नेश्ले कर्मचारी संगठन, राने मद्रास इम्पलाईज यूनियन, डेना इण्डिया श्रमिक संघ, ऑटोलाईन इम्पलाईज यूनियन, एडविक कर्मचारी संगठन, महिन्द्रा कर्मकार यूनियन, वोल्टास इम्पलाईज यूनियन, भगवती श्रमिक संगठन (माइक्रोमैक्स), समता सैनिक दल, इन्टरार्क मजदूर संगठन आदि संगठनों के श्रमिक साथी उपस्थित थे।

सितारगंज में एमकोर गेट पर हुई सभा

सितारगंज। सयुक्त मोर्चा द्वारा एम्कौर कम्पनी सिडकुल सितारगंज के धरनारथ साथियो के साथ शहीद भगत सिंह जी कि 112वीं जयंती का आयोजन हुआ, जिसमे इन्कलाबी मजदूर केंद्र,   डेना इंडिया,  सेडको रेकिट , गुजरात अंबुजा , एम्कौर के समस्त साथी अपने परिवार के महिला व बाल सिपाही के साथ व सिडकुल के अन्य कम्पनियो के मजदूर साथी भी उपस्थित रहे! डेना इंडिया के साथियों द्वारा एम्कौर के साथियो को 1000रुपए कि सहयोग राशि प्रदान कि गयी श्रमिक सयुक्त मोर्चा पंतनगर के साथियो द्वारा प्रकाशित भगत सिंह के लेखो पर प्रकाशित पुस्तिकाओं का भी वितरण किया गया ,भारी बारिश के बावजूद भी मजदूरों ने अपने जज्बे से कार्यक्रम को सफल बनाया।

इसे भी देखें- भगतसिंह की विरासत के हमलावरों को पहचानों

नीमराना में डाइकिन मजदूरों ने की सभा

नीमराना (राजस्थान)। डाइकिन एयरकंडिशनिंग मज़दूर यूनियन नीमराना, की तरफ़ से भगत सिंह के 112वें जन्मदिन के अवसर नीमराणा पार्क में सभा आयोजित हुई। भगत सिंह के तस्वीर पर माल्यार्पण कर सभा की शुरुआत की गई।

सभा में वक्ताओं ने कहा कि  आज के मौजूदा दौर में जब मजदूर वर्ग पर लगातार हमले हो रहे हैं, सांप्रदायिक ताकतों द्वारा लगातार लोगों को आपस में लड़ा कर बांटने की कोशिश की जा रही है तो ऐसे में ऐसी ताकतों का मुक़ाबला करने के लिए भगत सिंह और उनके विचारों की रोशनी में लड़ाई लड़ने की जरूरत है। भगत सिंह समानता पर आधारित व्यवस्था की बात करते थे।

भगत सिंह को समझने के लिए उनको पढ़ना बहुत जरूरी है। सभा में उपस्थित साथियों ने भगत सिंह द्वारा लिखे गए विभिन्न लेखों का पाठ किया और आपस में चर्चा की।

सभा को कॉमरेड सुमित, यूनियन प्रधान रुकमुद्दीन और रंजीत ने संबोधित किया।

इसे भी पढ़ें- भगत सिंह के बारे में एनडीटीवी का तथ्यहीन लेख शर्मनाक है!

भगत सिंह दिशा ट्रस्ट का विविध आयोजन

कुरुक्षेत्र (हरियाणा) । भगत सिंह दिशा ट्रस्ट और जन संघर्ष मंच हरियाणा द्वारा शहीद-ए-आज़म भगत सिंह के 113वें जन्मदिवस के अवसर पर शहीद भगत सिंह दिशा संस्थान में स्थित शहीद भगत सिंह की प्रतिमा पर माल्यार्पण कर  क्रांतिकारी श्रद्धाजंलि दी गई। माल्यार्पण के बाद जनसमूह इंकलाबी नारे लगाता हुआ जनसभा स्थल श्री गुरु रविदास धर्मशाला, कुरुक्षेत्र पहुंचा। जनसभा की अध्यक्षता जन संघर्ष मंच हरियाणा एवं मनरेगा मज़दूर यूनियन के प्रदेशाध्यक्ष कामरेड फूल सिंह ने की।

मुख्य वक्ता शहीद भगत सिंह दिशा ट्रस्ट के प्रधान कामरेड श्याम सुंदर ने कहा कि शहीद भगत सिंह ने इस देश में सर्वप्रथम मज़दूर किसानों की मुक्ति के मार्ग इंकलाब का कार्यक्रम प्रस्तुत किया था। शहीद भगत सिंह की हमारे लिए सबसे बड़ी देन यह है कि उन्होंने शोषित, पीड़ित, मेहनतकश जनता की मुक्ति का रास्ता हमें बताया है। इंकलाब जिंदाबाद केवल एक नारा ही नहीं है पूरा एक क्रान्तिकारी दर्शन है। मजदूरों का शोषण दमन करने वाली व्यवस्था पूंजीवाद का खात्मा किया जाए।

सभा को निर्माणकार्य मजदूर मिस्त्री यूनियन के प्रधान तथा हल्का थानेसर के जन संघर्ष मंच हरियाणा के उम्मीदवार कॉमरेड करनैल सिंह, एस.ओ.एस.डी. की संयोजिका कविता विद्रोही, जनसभा के अध्यक्ष कामरेड फूल सिंह, मैस वर्कर यूनियन के.यू.के. के बलबीर सिंह आदि ने भी संबोधित किया। मंच पर शहीद भगत सिंह दिशा ट्रस्ट के सचिव डा. लहना सिंह, जन संघर्ष मंच हरियाणा की महासचिव सुदेश कुमारी और वित्त सचिव चन्द्ररेखा उपस्थित रही। संचालन कॉमरेड सुरेश कुमार ने किया। इंकलाब जिंदाबाद शहीद भगत सिंह के क्रान्तिकारी की राह पर आगे बढ़ो के नारों से सभा का समापन हुआ।

इसे भी पढ़ें- शंकर गुहा नियोगी : जिसने खड़ा किया था मज़दूर आंदोलन का अभिनव प्रयोग

दिल्ली विश्वविद्यालय में गूंजी भगत सिंह की ललकार

दिल्ली। परिवर्तनकामी छात्र संगठन (पछास) द्वारा दिल्ली विश्वविद्यालय में सभा व क्रांतिकारी गीतों का आयोजन किया गया। सभा में छात्र-छात्राओं ने बढ़-चढ़कर भागीदारी की।

सभा का संचालन करते हुए साथी अमन ने कहा की 23 मार्च 1931 को ब्रिटिश साम्राज्यवादियों ने भगत सिंह की हत्या की थी। देश आजाद होने के बाद हमारे शासकों ने भगत सिंह के विचारों को मार कर उनकी दूसरी हत्या की। भगत सिंह के विचार हर दौर के पूंजीवादी शासकों के लिए खतरनाक हैं इसलिए सरकारों ने उनके विचारों को आम जनता तक पहुंचने नहीं दिया। सभा को इंक़लाबी मजदूर केंद्र के श्यामवीर, पत्रकार अनिल चमडिया, पछास के दीपक आदि ने संबोधित किया। संचालन अमन ने की।

भूली-बिसरी ख़बरे

%d bloggers like this: