उत्तराखंड में मजदूरों का फिर दमन

मुख्यमंत्री से मिलने जा रहे मजदूरों को पुलिस ने उठाया, 3 मज़दूरों को पुलिस चौकी में कैद रखा

हरिद्वार। उत्तराखंड में मजदूरों के दमन का सिलसिला लगातार तेज होता जा रहा है। ताजा घटना हरिद्वार की है, जहाँ गैरकानूनी बर्खास्तगी झेल रहे मज़दूर शिकार बने।

दरअसल आज 27 सितम्बर को उत्तराखंड के मुख्यमंत्री का हरिद्वार में कार्यक्रम था। मुख्यमंत्री से मिलाने जा रहे सत्यम आँटो कम्पोनेन्टस प्रा.लि. सिडकुल हरिद्धार के गैरकानूनी रूप से निष्कासित 300 श्रामिक पुलिसिया दमन के शिकार बने। मुख्यमंत्री के आने से पूर्व ही पुलिस ने 3 श्रमिकों खीम सिह, बलवन्त सिंह व महिपाल सिंह को उठाकर पुलिस चौकी में 3 बजे शाम तक कैद रखा तथा बाकि मज़दूरों को तितर-बितर कर दिया, जिसका मज़दूरों ने विरोध किया।

यह भी पढ़ें – सत्यम ऑटो मजदूरों की व्यथा

बाद में मज़दूरों ने अपनी माँगो को लेकर एसडीएम हरिद्धार के माध्यम से मुख्यमंत्री उत्तराखंड के नाम ज्ञापन सौंपा और कार्यबहाली की माँग की।

यह भी पढ़ें –  माइक्रोमैक्स मजदूरों ने श्रम भवन हल्द्वानी में किया प्रदर्शन

उसके बाद सभी श्रामिक चिन्मयी डिग्री कोलेज पर एकत्रित होकर कारखाना प्रबंधक की अरथी उठा कर शव यात्रा निकाली और हीरो चौक पर कारखाना प्रबंधक का पुतला दहन किया।

इसे भी पढ़ें- http://उत्तराखंड : बंद होती कंपनियां, संघर्षरत मजदूर

रैली में सतीश शर्मा, अनुज बालियान, महिपाल सिंह, राकेश सिंह, राजेन्द्र सिंह, सूरज सिंह, बलवान्त सिंह, खेम सिंह ,संजीव सिंह आदि शामिल थे।

भूली-बिसरी ख़बरे

%d bloggers like this: