पावर कंपनी में श्रमिक नेताओं का गेट बंद, फूटा आक्रोश

केएसके महानदी पावर कंपनी में 35 कर्मियों को अंदर घुसने से रोका, संघ ने जताया विरोध

अकलतरा (छत्तीसगढ़)| केएसके महानदी पावर कंपनी लिमिटेड नरियरा के मुख्य गेट के सामने बुधवार को 35 श्रमिक नेताओं को प्लांट के अंदर जाने से रोका गया। अफसरों ने श्रमिक नेताओं को उनके ऊपर दर्ज मामलों का निराकरण होने तक उनके काम से आने से मना किया। श्रमिक नेताओं को प्लांट के अंदर नहीं जाने देने पर यूनाइटेड मजदूर संघ एवं छत्तीसगढ़ पावर मजदूर संघ ने विरोध जताया पर प्लांट के मुख्य गेट के सामने पुलिस बल उपस्थित होने एवं शासन की सख्ती के चलते मजदूर प्लांट के अंदर काम पर गए।

इसे भी पढ़ें- http://मारुति संघर्ष का सबक : यह वर्ग संघर्ष है!

यूनाइटेड मजदूर संघ के महामंत्री सुमित प्रताप सिंह ने बताया कि प्लांट प्रबंधन द्वारा द्वेषपूर्वक 35 श्रमिक नेताओं के खिलाफ मामला दर्ज करने के साथ-साथ बर्खास्तगी की कार्यवाही की जा रही है। इसका विरोध यूनाइटेड मजदूर संघ द्वारा किया जाएगा। श्रमिक नेताओं की बर्खास्तगी पर आंदोलन प्रारंभ किया जाएगा। छत्तीसगढ़ पावर मजदूर संघ के उपमहामंत्री बलरामपुरी गोस्वामी ने बताया कि प्लांट प्रबंधन द्वारा लॉक-आउट खत्म करने पर श्रमिक संगठन काम पर अंदर गए पर श्रमिक नेताओं को प्लांट के अंदर प्रवेश नहीं दिए जाने से विवाद की स्थिति निर्मित हो रही है। जिला प्रशासन एवं पुलिस प्रशासन को 26 सितंबर को जांजगीर जाकर ज्ञापन सौंपा जाएगा।

इसे भी देखें- http://उत्तराखंड : बंद होती कंपनियां, संघर्षरत मजदूर

असल मामला क्या था

केएसके महानदी पावर कंपनी लिमिटेड नरियरा में 11 सितंबर को मजदूर संगठनों के बीच विवाद होने से प्लांट प्रबंधन द्वारा प्लांट में उत्पादन बंद कर दिया गया था । 17 सितंबर को प्लांट में लॉक-आऊट की नोटिस लगाने के साथ प्लांट प्रबंधन द्वारा अनिश्चितकाल के लिए आंदोलन बंद करने की बात कही गई । केएसके महानदी पावर कम्पनी लिमिटेड नरियरा द्वारा प्लांट में लाॅक-आउट करने से 18 सितंबर को जांजगीर में जिला प्रशासन, पुलिस प्रशासन की उपस्थिति में प्लांट प्रबंधन एवं श्रमिकों की बैठक हुई। बैठक में प्लांट प्रबंधन द्वारा जिला प्रशासन एवं पुलिस प्रशासन को पांच दिन में प्लांट में उत्पादन शुरू करने का आश्वासन दिया पर लॉक-आउट होने के सात दिन बाद भी प्लांट में उत्पादन शुरू नहीं होने से जिला प्रशासन द्वारा पहल की गई। प्लांट प्रबंधन द्वारा जिला प्रशासन को 25 सितंबर से लॉक-आउट खत्म करते हुए प्लांट में उत्पादन शुरू करने की बात कही

दैनिक भाष्कर से साभार

%d bloggers like this: