पॉकेट पर हमले : दे दनादन

देश बदल रहा है !

मोदी सरकार ने आम आदमी की रोजमर्रा की जिंदगी से जुड़े नियम कानूनों में कुछ बड़े बदलाव किए हैं जो कल से लागू हो चुके हैं। नियम कानून बदलने के नाम पर आम आदमी की जेब काटने की कोशिश की जा रही है। अब आपको इंटरनेट से टिकट कटाने पर, ट्रैफिक नियम तोड़ने पर, बैंक से पैसा निकालने पर, घर खरीदने पर अपनी जेब से ज्यादा पैसा ख़र्च करना पड़ेगा।

नए ट्रैफिक नियमों में ज्यादा जुर्माना लगाया जाएगा

ट्रैफिक नियमों का उल्लंघन आपको काफी भारी पड़ेगा। आज से संशोधित मोटर व्हीकल एक्ट लागू हो गया है जिसमें यातायात नियमों के उल्लंघन पर भारी जुर्माने का प्रावधान किया गया है। शराब पीकर गाड़ी चलाते हुए पकड़े  जाने पर 10 हज़ार रुपये का जुर्माना है। हेलमेट नहीं लगाने पर 500 से 1500 रुपये का चालान और 3 महीने के लिए लाइसेंस निलंबित और बाइक पर तीन सवारी होने पर 500 रुपये का चालान है।  वहीं, बिना  ड्राइविंग लाइसेंस वाहन चलाने पर 5000 रुपए और पॉल्यूशन सर्टिफिकेट ना होने पर 500 रुपये का चालान है। तो कुल मिलाकर बस जुर्माना बढ़ा दिया गया है। हालांकि पश्चिम बंगाल, मध्य प्रदेश और राजस्थान की सरकारों ने नए ट्रैफिक नियमों को अपने यहां लागू करने से मना कर दिया है।

इंटरनेट से टिकट खरीदना महंगा हुआ

ई टिकट खरीदना अब महंगा हो गया है। IRCTC ने ई-टिकटों पर फ़िर से सर्विस चार्ज  लागू कर दिया है। सेकेंड क्लास यानि स्लीपर के ई-टिकट पर 15 रुपये और वातानुकूलित श्रेणी की ई-टिकट पर 30 रुपये सर्विस चार्ज लगेगा।

वाहन बीमा नियमों में बदलाव

भूकंप, बाढ़, और दंगे जैसी प्राकृतिक आपदाओं से वाहनों को होने वाले नुकसान के लिये अलग से बीमा लेना होगा। साधारण बीमा से काम नहीं चलेगा। इससे बीमा कंपनियों को मुनाफा होगा।

आधार नंबर पैन नंबर से लिंक नहीं होने पर नया पैन नंबर आयकर विभाग की ओर से जारी किया जाएगा।

बैंक के जरिए जासूसी और अवैध वसूली

आपकी बाज़ार से खरीददारी पर अब बैंक की निगाह रहेगी। कार्ड से खरीददारी करने पर अभी तक बैंक सिर्फ 50 हजार से ऊपर के ट्रांजेक्शन का ही रिपोर्ट तैयार करती थी पर अब बैंक छोटे लेन देन पर भी नज़र रखेंगे और इनकम टैक्स डिपार्टमेंट को रिपोर्ट करेंगे। मतलब बैंक के ज़रिए सरकार आपकी जासूसी करेगी।

इसे भी पढ़ें- http:// बैंकों का विलय, सरकारी बैंकों पर डाका

50 लाख से अधिक का भुगतान करने पर पांच फीसदी टीडीएस लगेगा और एक करोड़ रुपये की नकद निकासी पर दो प्रतिशत का टीडीएस देना होगा।

अब घर खरीदने पर जेब से ज्यादा पैसे जाएंगे।  अभी तक सिर्फ प्रोपर्टी के कुल मूल्य पर टीडीएस कटता था पर अब प्रोपर्टी के दाम के साथ अन्य सुविधाओं जैसे- क्लब मेंबरशिप, पार्किंग फी आदि जोड़कर टीडीएस काटे जाएंगे।

तो आर्थिक मंदी है, नौकरियां नहीं है, इंक्रीमेंट नहीं लग रहे और सरकार आपकी जेब पर डाका डाल रही है।

भूली-बिसरी ख़बरे

%d bloggers like this: