विधानसभा में पोर्न देखने वाले भाजपा नेता को बनाया कर्नाटक का डिप्टी सीएम

पार्टी के अंदरखाने उठे विरोध के स्वर

लक्ष्मण सावदी को उप मुख्यमंत्री बनाया जाना इसलिए भी अखर रहा है क्योंकि वे इस बार न विधायक हैं और न ही विधान परिषद सदस्य। लक्ष्मण सावदी वही नेता हैं जो वर्ष 2012 में विधानसभा चलने के दौरान पोर्न देखते हुए पकड़े गये थे…

भाजपा नेताओं और विवादों का आमतौर पर चोली-दामन का साथ रहता है। कोई किसी मामले में चर्चित (कु) रहता है तो कोई किसी अन्य। अब एक अन्य भाजपा नेता राजनीतिक गलियारों में चर्चा का केंद्रबिंदु है, कारण है उसे उपमुख्यमंत्री जैसे जिम्मेदार पद पर बिठाना। वह भी तब जबकि वह पोर्न कांड में चर्चित रह चुका है।

गौरतलब है कि कर्नाटक भाजपा के सत्तासीन होने के बाद मंत्रियों के बीच विभागों का बंटवारा नहीं हुआ था, जो अब हुआ है। चर्चा का एक कारण यह है भी है कि इस बार मुख्यमंत्री येदियुरप्पा के मंत्रिमंडल में तीन उप मुख्यमंत्री हैं, जिनमें से एक लक्ष्मण सावदी के कारण राजनीतिक माहौल गर्म है।

र्नाटक में येदियुरप्पा सरकार में लक्ष्मण सावदी के अलावा डॉ अश्वत नारायण और दलित नेता गोविंद करजोल को भी डिप्टी सीएम बनाया गया है। मुख्यमंत्री येदियुरप्पा ने एक ऐसे भाजपाई लक्ष्मण सावदी को उप मुख्यमंत्री बनाया है, जोकि विधानसभा में पोर्न देखते हुए धरे गये थे। तब पोर्न कांड को लेकर भाजपा की खासी किरकिरी भी हुई थी।

क्ष्मण सावदी को उप मुख्यमंत्री बनाया जाना इसलिए भी अखर रहा है, क्योंकि वे इस बार न विधायक हैं और न ही विधान परिषद सदस्य। लक्ष्मण सावदी वही नेता हैं जो वर्ष 2012 में विधानसभा चलने के दौरान पोर्न देखते हुए पकड़े गये थे। तब कैमरों की नजर जब तीन मंत्रियों की तरफ गयी थी तो तीन विधायक मोबाइल पर पोर्न देख रहे थे। लक्ष्मण सावदी के साथ तब सीसी पाटिल और कृष्णा पालेमर भी पोर्न कांड में लिप्त पाये गये थे। तस्वीरें बाहर सामने आने पर इस मामले में खूब हंगामा मचा था, जिसके बाद तीनों मंत्रियों को अपने पदों से इस्तीफा देना पड़ा था।

मुख्यमंत्री येदियुरप्पा ने नई कैबिनेट में उन्हें ट्रांसपोर्ट पोर्टफोलियो की जिम्मेदारी सौंपी हैं। उन्हें उपमुख्यमंत्री बनाये जाने पर भाजपा के अंदरखाने भी विरोध के स्वर उठने लगे हैं। मुख्यमंत्री के सहयोगी एमपी रेनुकाचार्य ने लक्ष्मण सावदी की नियुक्ति का विरोध करते हुए कहा कि ‘लक्ष्मण सावदी को चुनाव हारने के बावजूद मंत्री के रूप में शामिल करने की क्या आवश्यकता थी।’ गौरतलब है कि लक्ष्मण सावदी पिछले साल महेश कुमाटटल्ली से चुनाव हार गए थे।

हीं लक्ष्मण सावदी ने मीडिया से बात करते हुए कहा, ‘केंद्र और राज्य के नेताओं ने मुझे डिप्टी सीएम बनाया है। उन्होंने मुझ पर विश्वास जताया है। मैं पार्टी को मजबूत बनाऊंगा और हमारी सरकार अच्छा नाम करेगी। मैंने यह पद नहीं मांगा था। पार्टी के वरिष्ठ नेताओं ने मुझे यह पद दिया है। मैं इसे स्वीकार करता हूं।’

पोर्न कांड के बाद लक्ष्मण सावदी ने सफाई दी थी कि वे पोर्न वीडियो शिक्षा के उद्देश्य से देख रहे थे, ताकि वह रेव पार्टी के बारे में जान सकें।

जनज्वार से साभार

Leave a Reply

भूली-बिसरी ख़बरे

%d bloggers like this: